पाकिस्तान में पायलट अभिनंदन ने कैसे बिताये 2 दिन

भारत लौटने के बाद जानिए, पाकिस्तान में पायलट अभिनंदन ने कैसे बिताये 2 दिन

भारत का हर व्यक्ति उत्सुक हैं आपको बताते हैं अभिनंदन के भारत से पाकिस्तान जाकर और वापस पाकिस्तान से भारत आने के बीच की पूरी दास्तां किसी फिल्मी स्टोरी से कम नहीं है इसलिए साहसी वीर की दास्तां जी हां फिल्मों में जो हीरो बताए जाते हैं वह तो काल्पनिक होते हैं लेकिन यह हीरो असल लाइफ में असल जिंदगी में वह करके दिखाया है इन्होंने जो शायद हीरो सिर्फ फिल्मों में ही कर सकते हैं.

अभिनंदन

आपको बताते अभिनंदन पाकिस्तान पहुंचे थे अब तक के बीच में उनके साथ क्या-क्या हुआ भारतीय और पाकिस्तानी विमान दोनों लड़ रहे थे एक दूसरे के साथ अभिनंदन का विमान क्रैश हो जाता है और वह अभिनंदन के साथ में एक और साथी था. एक तो वह पायलट अभिनंदन और उनके साथी उसी समय विमान में आग लग जाने की वजह से शहीद हो जाते हैं. जबकि अभिनंदन अपने विमान में स्थित पैराशूट को लेकर के नीचे उतरते हैं. लेकिन उन्हें यह भी पता नहीं होता कि वह भारत की जमीन पर हैं या फिर पाकिस्तान की जमीन पर. जब वह नीचे उतरते हैं. तो पैराशूट की मदद से उतरते ही वहां खड़े लोगों से पूछते हैं कि यह भारत है या पाकिस्तान. वहां पर खड़े लोगों में से एक लड़के ने होशियारी दिखाते हुए. उसने अभिनंदन जी को जवाब दिया कि यह भारत है. जब पायलट जी ने यह सुना तो पाकिस्तान में ही उन्होंने भारत माता और देशभक्ति वाले नारे लगाने शुरू कर दिए.

इसके जवाब में जब गांव के लोगों ने पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए तब उन्हें समझ में आया कि वह तो असल में भारत में नहीं बल्कि पाकिस्तान में गिरा उसके बाद क्या होता है गाँव के चौधरी जी देख रहे थे और उन्होंने जब देखा कि पैराशूट के सहायता से जो यह कमांडो नीचे उतर रहा है. इसके पैराशूट पर भारत का झंडा बना हुआ है. तब वह कहते हैं कि मैं जान चुका था कि यह भारतीय पायलट हैं और उनका इरादा था इन को जिंदा पकड़ने का लेकिन वहां पर जो कुछ शरारती पाकिस्तानी लड़के थे. वह पायलट जी के तरफ दौड़ने लगते हैं और उन्हें मारने लगते हैं. उन्हें नुकसान पहुंचाने लगते हैं. तभी पायलट अभिनंदन उनकी तरफ पिस्तौल करते हैं और 1-2 फायरिंग हवा में गोली चलाते हैं. जिससे वह लड़के कुछ तो डर जाते हैं लेकिन फिर भी दूर नहीं जाते हैं. फिर वह लड़के उनका पीछा करते हैं और पायलट जी पीछे की तरफ तकरीबन आधा किलोमीटर भागते हैं. और आगे मुहं करके पीछे किस तरह भागना मायने रखता है. आधा किलोमीटर अच्छा उसके बाद पायलट अभिनंदन यह सोचते हैं कि अब वह पाकिस्तान की जमीन पर तो उतर ही चुके हैं अब उनके पास जो कुछ ऐसे इंपॉर्टेंट डॉक्यूमेंट और कुछ सबूत वगैरह आईडी प्रूफ है. तो उन्होंने सोचा कि क्यों न उन को नष्ट कर दिया जाए.

इसे भी देखे:- KyunDil Mera Hua Hai Tera

ताकि पाकिस्तानियों के हाथ में कुछ ना लगे. इसी के चलते अभिनंदन फिर से हवा में गोलियां चलाते हैं और फाइनली एक छोटे से तालाब में छलांग लगा देते हैं. अपनी जेब से कुछ ऐसा कोशिश करते हैं और कुछ को पानी में डालकर खराब करने की कोशिश करते हैं. तभी अचानक से वहां पर पाकिस्तानी सेना के लोग पहुंच जाते हैं और विंग कमांडर अभिनंदन को अपनी हिरासत में ले लेते हैं. गुस्साई भीड़ को पीटने से भी उन्हें रोकते हैं. विंग कमांडर को पिटाई की वजह से उन्हें कुछ चोटें भी आई थी. उनसे खून भी निकल रहा था. हालांकि वह आसमान से गिरे थे नहीं थे.

ख़रीदे इस मोबाइल को और बचाए पूरे 10,000 रूपये OPPO R17 Pro (Radiant Mist, 8GB RAM, 128GB Storage) with Offerir?t=amit7867860b 21&l=am2&o=31&a=B07KTKVVLX

जब वह नीचे उतरे थे तब उन्होंने कुछ पीने के लिए पानी मांगा था. वहां खड़े लोगों से तो वहां के शरारती लड़कों ने पानी तो नहीं दिया बल्कि उन्हें वहां पर पीटने की कोशिश करने लगे. तभी वह पीछे भागते हैं फिर वह तालाब चले जाते हैं. उसके बाद क्या-क्या होता जो मैंने अभी आपको बताया तो पाकिस्तान में उतरने के बाद जब उन्होंने पानी मांगा तो पानी भी नहीं दिया. उनके अंदर किसी भी प्रकार की इंसानियत नही थी. कोई दुश्मन भी पानी मांगे तो शायद हमारा कोई भारतीय उन्हें मना नहीं करता यह हमारी भारतीय सभ्यता है.



अभिनंदन से पूछे कुछ ऐसे सवाल 

पाकिस्तान में उनसे कुछ सवाल पूछे जाते हैं. आपका नाम क्या है तो उन्हें जवाब मिलता है मेरा नाम विंग कमांडर अभिनंदन है मेरे पास उसके सबूत भी है. दूसरा सवाल है की उम्मीद है आप के साथ यहां अच्छा व्यवहार किया जा रहा है तब यह कहते कि हां मेरे साथ अच्छा व्यवहार किया जा रहा है. मेरा यह बयान भारत लौटने पर भी नहीं बदलेगा. तीसरा सवाल कहां के रहने वाले हैं उन्होंने कहाँ यह नहीं बता सकता दक्षिण भारत में से कहीं भी. चौथा सवाल कि चाय पसंद आई वह कहते हैं कि बहुत अच्छी है थैंक्यू. बड़ा सवाल उनसे पूछा जाता है कि कौन सा विमान उड़ा रहे थे तब वह कहते हैं कि Sorry मैं यह भी नहीं बता सकता लेकिन विमान के मलबे से आपको यह पता चल गया होगा. पांचवां सवाल पूछा जाता कि आपका मिशन किया था तभी उन्हें जवाब मिलता है कि सॉरी सर मैं आपको यह भी नहीं बता सकता. जबकि वह चाहते तो हर एक सवाल का जवाब दे सकते थे लेकिन उन्होंने कह दिया कि सॉरी मेजर मैं आपको यह नहीं बता सकता.

Share

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *